Tags

, , , , , , , , , , , , , , , , ,

(ENGLISH)IMAM ALI (as)

If I cut a faithful Muslim into pieces to make him hate me, he will not turn into my enemy and if I give all the wealth of this world to a hypocrite to make him my friend he will not befriend me. It is so because the Holy Prophet has said: ” O Ali! No faithful Muslim will ever be your enemy and no hypocrite will ever be your friend. “

( हिन्दी ) इमाम अली
अगर मैं इस तलवार से मोमिन की नाक भी काट दूं के मुझसे
दुश्मनी करने लगे तो हरगिज़ न करेगा और अगर दुनिया की तमाम
नेमतों मुनाफ़िक़ पर उण्डेल दूँ के मुझसे मोहब्बत करने लगे तो हरगिज़ न
करेगा। इसलिये के इस इक़ीक़त का फ़ैसला नबीए सादिक़ की ज़बान
से हो चुका है के ‘‘या अली (अ0)! कोई मोमिन तुमसे
दुश्मनी नहीं कर सकता है और कोई मुनाफ़िक़ तुमसे मोहब्बत नहीं कर
सकता है।’’

Advertisements